*तिरुपति में गुम छत्तीसगढ़ का बच्चा बैंगलोर में मिला*

Must Read

तिरुपति में गुम छत्तीसगढ़ का बच्चा बैंगलोर में मिला

(सवितर्क न्यूज, मनोज शुक्ला )

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कर्नाटक, आंध्रप्रदेश व छत्तीसगढ़ पुलिस को दी बधाई

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के 6 वर्षीय बच्चा जो कि तिरुपति बालाजी में गुम हो गया था, बैंगलोर में सकुशल ढूंढ लिया गया है।

बैंगलोर पुलिस ने वीडियो कॉल के माध्यम से परिजनों से बच्चे की बात करवाई।

छत्तीसगढ़, आंधप्रदेश और कर्नाटक पुलिस के साझा प्रयास से यह प्रयास सफल हुआ।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि तीनों राज्यों की पुलिस इस सफलता हेतु बधाई के पात्र हैं।

ज्ञात हो कि मंत्री ताम्रध्वज साहू ने मामला संज्ञान में आते ही पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

उल्लेखनीय है कि 6 वर्षीय बच्चा अपने परिजनों के साथ गरियाबंद से तिरुपति बालाजी दर्शन के लिए गया था। इसी दौरान कोई युवक बस स्टैंड से बच्चे को लेकर चला गया।

वारदात 27 फरवरी की है। काफी तलाश और स्थानीय तिरुपति सिटी थाने में एफआईआर के बाद भी बच्चे का पता नहीं चलने पर परिजनों ने छत्तीसगढ़ सरकार से मदद की गुहार लगाई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

More Articles Like This

तिरुपति में गुम छत्तीसगढ़ का बच्चा बैंगलोर में मिला

(सवितर्क न्यूज, मनोज शुक्ला )

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कर्नाटक, आंध्रप्रदेश व छत्तीसगढ़ पुलिस को दी बधाई

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले के 6 वर्षीय बच्चा जो कि तिरुपति बालाजी में गुम हो गया था, बैंगलोर में सकुशल ढूंढ लिया गया है।

बैंगलोर पुलिस ने वीडियो कॉल के माध्यम से परिजनों से बच्चे की बात करवाई।

छत्तीसगढ़, आंधप्रदेश और कर्नाटक पुलिस के साझा प्रयास से यह प्रयास सफल हुआ।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि तीनों राज्यों की पुलिस इस सफलता हेतु बधाई के पात्र हैं।

ज्ञात हो कि मंत्री ताम्रध्वज साहू ने मामला संज्ञान में आते ही पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

उल्लेखनीय है कि 6 वर्षीय बच्चा अपने परिजनों के साथ गरियाबंद से तिरुपति बालाजी दर्शन के लिए गया था। इसी दौरान कोई युवक बस स्टैंड से बच्चे को लेकर चला गया।

वारदात 27 फरवरी की है। काफी तलाश और स्थानीय तिरुपति सिटी थाने में एफआईआर के बाद भी बच्चे का पता नहीं चलने पर परिजनों ने छत्तीसगढ़ सरकार से मदद की गुहार लगाई थी।